सुप्रसिद्ध करियर काउंसेलर एवं आरकेड बिजनेस कॉलेज, पटना के डायरेक्टर श्री आशीष आदर्श सर का ‘प्रभात खबर’ में पूर्व प्रकाशित कॉलम ‘पर्सनालिटी प्लस’

सुप्रसिद्ध करियर काउंसेलर एवं आरकेड बिजनेस कॉलेज, पटना के डायरेक्टर श्री आशीष आदर्श सर का ‘प्रभात खबर’ में पूर्व प्रकाशित कॉलम ‘पर्सनालिटी प्लस’

#MondayMotivation : आइए, प्रेरणादायी विचारों के साथ करें एक नये सप्ताह की शुरुआत!

‘मनोवांछित सफलता के लिए जरूरी है मन, वाणी और शरीर पर नियंत्रण’

पढ़ें, सुप्रसिद्ध करियर काउंसेलर एवं आरकेड बिजनेस कॉलेज, पटना के डायरेक्टर श्री आशीष आदर्श सर का ‘प्रभात खबर’ में पूर्व प्रकाशित कॉलम ‘पर्सनालिटी प्लस’।👇

आप विवेक से कर सकते हैं स्वयं को नियंत्रित।
विश्व के महानतम विचारकों में सुकरात का का नाम आता है, जिनके अनुयायी करोड़ों की संख्या में विश्वभर में फैले हुए हैं। सुकरात के विचारों से हमें जीवन को एक नये रूप में देखने की दृष्टि मिलती है। एक बार की बात है, सुकरात अपने शिष्यों के साथ बैठकर कुछ विचार मंथन कर रहे थे। तभी एक व्यक्ति वहां पहुंचा और सुकरात से बोला, तुम अपने आप को बहुत बड़ा विद्वान समझते हो, लेकिन मैं एक ज्योतिषी हूं और किसी को भी देखकर उसके पूरे चरित्र के बारे में बता सकता हूं। सुकरात ने मुस्कराकर कहा, आप बैठिये और मेरे बारे में कुछ बताइये। उस व्यक्ति ने सुकरात को थोड़ी देर ध्यान से देखा, फिर बोला तुम एक निहायत ही घटिया और पाखंडी व्यक्ति हो। तुम्हारे चेहरे की बनावट यह बताती है कि तुम्हें ज्ञान विल्कुल नहीं। तुम अहंकार से ग्रसित हो। अपने गुरु के बारे में ऐसी बातें सुनकर सुकरात के शिष्य गुस्से में आ गये। लेकिन, सुकरात ने उन्हें शांत रहने को कहा। ज्योतिषी ने आगे कहा, तुम्हारे शरीर की बनावट यह बताती है कि तुम सत्ता विरोधी हो और बेहद लालची, सनकी और क्रोधित भी। अब सुकरात के शिष्यों के गुस्से का ठिकाना न रहा, लेकिन वे चुप थे। सारी बात पूरी होने पर सुकरात ने उसे प्रणाम किया और उपहार देकर विदा किया। जब वह चला गया, तो शिष्यों ने सुकरात से पूछा, गुरुवर, आपने ऐसे झूठे आदमी के साथ ऐसा क्यों किया? सुकरात ने कहा, उसने जो भी बात कही, वह बिल्कुल सही है। मैं जानता हूं कि वे तमाम विकार मुझमें कभी-न-कभी थे ही, जिन्हें मैंने अपने विवेक से नियंत्रित कर रखा है। आज उसने मेरे विकारों की याद दिला कर मेरे नियंत्रण तंत्र को और अधिक मजबूत कर दिया है। सुकरात की बात सुनकर शिष्य नतमस्तक हो गये।

दोस्तों, एक बार किसी सभा में स्वामी विवेकानंद ने कहा था कि यदि तुमने स्वयं पर, अपने मन, वाणी और शरीर पर नियंत्रण कर लिया, तो फिर तुम्हें इस विश्व को जीतने से कोई नहीं रोक सकता। अगर हम यह समझ लें और इसे अपने जीवन में आत्मसात करें, तो हमारा जीवन एक सकारात्मक दिशा में आगे बढ़ सकता है।

#PersonalityPlus #AashishAadarsh
#ArcadeBusinessCollege #BestCollege #Patna #Bihar Aashish Aadarsh

See less